बिहार पुलिस ने किया दोहरे हत्याकांड का खुलासा

जमीन विवाद के कारण हुई मंटू और उसके पिता की हत्या

फुलवारी में हुए दोहरे हत्याकांड़ का खुलासा करते हुए पुलिस ने वारदात में शामिल पांच बदमाशों को दबोच लिया। पुलिस के मुताबिक रूपसपुर और हवाई अड्ड़ा थाना क्षेत्र की विवादित जमीन को लेकर राजीव रंजन उर्फ मंटू और उनके पिता सुधीर कुमार की हत्या की गयी थी। घटना 13 दिसम्बर को फुलवारीशरीफ थाना क्षेत्र के बीएमपी 16 के समीप घटी थी। मामले की जानकारी एसएसपी मानवजीत सिंह ढिल्लों ने दी।

पुलिस के अनुसार‚ 13 दिसम्बर को अपराधियों ने राजीव रंजन उर्फ मंटू के घर में घुसकर तीन लोगों को गोली मार दिया था और उनके आभूषणों को लेकर फरार हो गये थे। वारदात में मंटू और उनके पिता सुधीर कुमार की मौत हो गयी। घटना की गंभीरता को देखते हुए नगर पुलिस अधीक्षक पश्चिमी के नेतृत्व में विशेष टीम का गठन किया गया जिसमें अपर पुलिस अधीक्षक फुलवारीशरीफ‚ थानाध्यक्ष फुलवारीशरीफ‚ नौबतपुर‚ बेउर‚ जक्कनपुर‚ दीघा एवं अन्य पुलिसकर्मियों को शामिल किया गया। टीम ने इस तरह की अपराध शैली वाले गिरोह के अपराधियों की गतिविधि का अनुसंधान में स्पष्ट हुआ कि मंटू पर खगौल‚ रूपसपुर और हवाईअड्डा क्षेत्र में विवादित जमीन के कब्जे को लेकर कुख्यात अपराधियों से विवाद था। इसी क्रम में षणयंत्रपूर्वक हत्या करायी गयी है। अनुसंधान में पता चला कि घटना में संलिप्त अपराधी फुलवारीशरीफ थाने के नोनिया टोला स्थित मिथलेश कुमार उर्फ चिबला के घर पर जमा होने वाले हैं। विशेष टीम ने तत्काल सादे पोशाक में घेराबन्दी कर संदिग्ध हुलिये के पांच लोगों को पकड़ा। पूछताछ में उन लोगों ने अपना नाम मिथलेश कुमार उर्फ चिबला‚ अमर कुमार‚ नरोज कुमार उर्फ भोकना‚ राजेश कुमार उर्फ नाकट गोप एवं निकोलस बुद्धो दास बताया। तलाशी में उनके पास से दो देसी कट्टा, छह जिन्दा कारतूस‚ सात मिसफायर कारतूस‚ वार मोबाइल‚ स्कॉर्पियो की चाबी एवं घर के सामने से पीले रंग की एक स्कूटी बरामद की गयी।

पूछताछ में इन लोगों ने 13 दिसम्बर को हुई वारदात में अपनी संलिप्तता स्वीकार करते हुए बताया कि इसमें नाकट गोप का बेटा सन्नी राय भी अपने साथियों के साथ शामिल था। ये सभी पेट्रोल पम्प के पास घटना के लिए हथियार के साथ एकत्रित हुए थे। जैसे ही मंटू शर्मा इन्हें दिखा ये लोग उसके पीछे लग गये और जैसे ही वह अपने घर में घुसा‚ ये लोग उसके पीछे घर में घुसकर घटना को अंजाम दिये।

इन लोगों ने अपने अन्य सहयोगी अपराधियों के नाम का भी खुलासा किया है जिन्हें गोपनीय रखा जा रहा है। इनकी गिरफ्तारी के लिए छापेमारी जारी है। पूछताछ में पता चला कि घटना में पीले रंग की स्कूटी एवं उजले रंग की स्कॉर्पियो का प्रयोग किया गया था। तत्काल इनकी निशानदेही पर गोविंदपुर दुसाध टोला स्थित मैदान से उक्त स्कॉर्पियो भी बरामद की गयी। गिरफ्तार अपराधियों ने खुलासा किया कि परसा बाजार थाना क्षेत्र में इसी स्कॉर्पियो से मोटरसाइकिल की लूट की गई थी। घटना में संलिप्त एक अन्य अपराधी सुजीत कुमार ने न्यायालय में आत्मसमर्पण कर दिया है‚ जिसे इस कांड में रिमाण्ड पर लेने की कार्रवाई की जा रही है।

Show More

Related Articles