रांची में राज्य भर के आर्ट ऑफ़ लिविंग के प्रशिक्षकों व जिला विकास समिति सदस्यों का हुआ राज्य स्तरीय समागम

जेलों में संस्था द्वारा जारी बंदी सुधार व पुनर्वास कार्यक्रमों की सारगर्भित जानकारी दीं गई

रांची : विश्व भर में दि आर्ट ऑफ़ लिविंग अनवरत जारी मानवीय सेवा के 40 वर्ष पूरे हो रहे हैं। इसी उपलक्ष्य में कोरोनाकाल के बाद पहली बार आर्ट ऑफ़ लिविंग के अपैक्स बॉडी, रांची के तत्वावधान में एक होटल में राज्य भर के आर्ट ऑफ़ लिविंग प्रशिक्षकों सहित जिला विकास समिति सदस्यों के एकदिवसीय राज्य स्तरीय समागम का आयोजन आर्ट ऑफ़ लिविंग के राज्य संयोजकों सुमित कुमार, सोनाली सिंह एवं सुनील कुमार गुप्ता व एडमिन प्रमोद कुमार के संयुक्त नेतृत्व में किया गया। जिसमें 50 से अधिक प्रशिक्षकों ने भाग लिया। समागम की शुरुआत गुरु पूजा चैंटिंग से की गई। तदुपरांत एक-एक कर उनका व उनके परिवार का हालचाल लिया गया। उन्होंने अपने कुशल क्षेम के बाद समागम के दौरान “मिशन जिंदगी” सहित कई अन्य तारीकों से प्रशिक्षकों व कार्यकर्ताओं द्वारा अनेक स्थानों पर कोरोना काल के दौरान किए गए अनगिनत सेवाकार्यों के अपने अनुभवों को साझा किया। अपैक्स बॉडी के सुनील कुमार गुप्ता ने गुरुदेव के साथ हाल ही में बेंगलूर आश्रम में हुए बैठक में कोरोना काल के उपरांत विभिन्न सेवकार्यों के संबंध में बताए गए विजन के बारे में उपस्थित प्रशिक्षकों को विस्तार से बताते हुए कहा कि अब हमसबों को पूरी ऊर्जा के साथ अपने-अपने राज्य के लोगों को तनावमुक्त, नशामुक्त व रोगन्मुक्त बनाने के लिए विभिन्न प्रोजेक्ट्स में लग जाना है। इस दौरान राज्यभर के अलग-अलग जिलों में 40 से अधिक आदर्श गांव बनाने सहित झारखंड में यथाशीघ्र “आर्ट ऑफ़ लिविंग ज्ञानक्षेत्र” के निर्माण पर चर्चा की गई। पीएन सिंह के द्वारा जेलों में संस्था द्वारा जारी बंदी सुधार व पुनर्वास कार्यक्रमों की सारगर्भित जानकारी दीं गई व सभी प्रशिक्षकों को इस दिशा में आगे बढ़कर कार्य करने हेतु उन्मुखीकरण किया गया। पूर्व राज्य समन्वयकों में श्रीमती सबिता सिंह व बेबी कुमारी ने भी अनेक जिलों संस्था द्वारा चलाए जा रहे निशुल्क ट्राइबल विद्यालयों सहित कई स्वास्थ्य एवं जनजागरूकता कार्यक्रमों की भी जानकारी दी। सभी प्रशिक्षकों ने अपनी-अपनी रूचि के अनुसार विभिन्न सेवकार्यों में अपनी भागीदारी का संकल्प लिया। स्टेट चिल्ड्रन टींस कोऑर्डिनेटर मयंक सिंह और ईस्ट ज़ोन यूथ कोऑर्डिनेटर विभु गौतम ने स्कूल और कॉलेज के छात्रो के लिए कार्यशाला की रूपरेखा का वर्णन किया। इसके उपरांत उपस्थित प्रशिक्षकों को उत्कृष्ट सेवा हेतु प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया गया। अंत में सामूहिक फोटोग्राफी व प्रीतिभोज के साथ ही कार्यक्रम के समापन की औपचारिक घोषणा की गई। संस्था की ओर से धन्यवाद ज्ञापन एडमिन प्रमोद कुमार के द्वारा किया गया। समागम में उपस्थित गणमान्य अन्य लोगों में श्रीमती सबिता सिंह, बृजबिहारी सिंह, सुशीला सिंह, रौशनी खलखो, विभु गौतम, मयंक सिंह, टुलु सरकार, दीपक कुमार, रेणु रीना, विकास कुमार स्नेही, प्रियंका रंजन, देवी सिंह, उत्तम सिन्हा, मुकेश महतो, केशव कश्चप, दीपक महतो, रेणु पदपात्रा, रूंटी चंद्रा, पूनम जायसवाल, रूपेश कुमार, तारकेश्वर सोनी, रविंद्र कुमार, प्रमोद कुमार सिन्हा, बीना कुमारी, मानस आदि शामिल हुए।

Show More

Related Articles