रांची में महंगाई के खिलाफ कांग्रेस का प्रदर्शन, थाली पीटकर जताया विरोध

नेताओं ने केंद्र सरकार को जनविरोधी बताते हुए महंगाई कम करने की मांग की

रांची : पेट्रोल डीजल के दाम में रोजाना वृद्धि और महंगाई के खिलाफ कांग्रेस पार्टी कार्यालय से अल्बर्ट एक्का चौक तक झारखंड कांग्रेस के नेताओं ने आक्रोश मार्च निकाला। मार्च में जिसमें कांग्रेसी नेताओं ने थाली और ढोल नगाड़ा पीटकर लोगों को जागरूक किया। मार्च के दौरान नेताओं ने केंद्र सरकार को जनविरोधी बताते हुए महंगाई कम करने की मांग की। प्रदर्शन के दौरान केंद्र सरकार पर महंगाई बढ़ाने का कांग्रेस नेताओं ने आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि केंद्र के पिछले 8 साल के शासनकाल में कमरतोड़ महंगाई बढ़ी है। कांग्रेस इसके खिलाफ अभियान चला रही है। नेताओं ने कहा देश को महंगाई मुक्त बनाने के लिए देशभर में थाली और नगाड़ा पीटो अभियान चलाया जा रहा है, ताकि कुंभकरण की नींद में सोई केंद्र सरकार को जगाया जा सके। बढ़ती महंगाई के विरोध में कांग्रेस नेता और कार्यकर्ताओं ने सड़क पर उतरकर केंद्र के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। थाली बजाकर महंगाई का विरोध किया। कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता राकेश सिन्हा ने कहा कि कांग्रेस अब महंगाई मुक्त भारत बनाने की ओर कदम बढ़ा दिया है। आज से इसकी शुरूआत पूरे देश भर में हो गई है। आंदोलन के जरिए कुंभकर्णी केंद्र सरकार को जगाने का काम कर रही है। महंगाई से सभी वर्ग के लोग चाहे वो गृहिणी हो या फिर किसान या छात्र हो सभी लोग इससे प्रभावित हो रहे हैं। पूर्व विधायक केशव महतो कमलेश ने कहा कि पांच राज्यों में चुनाव था, जिसको लेकर केंद्र सरकार चुप थी, लेकिन जैसे ही चुनाव खत्म हुई, वैसे ही महंगाई बढ़ानी शुरू कर दी है। ऐसी सरकार को देश में रहने का कोई अधिकार नहीं है। इस आंदोलन के जरिए बहरी और गूंगी केंद्र सरकार को जगाने का काम किया जा रहा है। नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में चलने वाली भाजपा सरकार ने जिस प्रकार देशवासियों को पेट्रोल, डीजल, रसोई गैस के नाम पर निचोड़ने का काम कर रही है, वह अब असहनीय हो गई है। जनहित में केंद्र की भाजपा सरकार को महंगाई पर तुरंत नियंत्रण के लिए आदेश किया जाए। बता दें कि कांग्रेस केंद्र की सत्तारूढ़ मोदी सरकार को महंगाई और ईंधन की कीमतों में बढ़ोतरी के मुद्दे पर एक वृहत आंदोलन चला रही है। इस कड़ी में कांग्रेस 31 मार्च से 7 अप्रैल तक महंगाई और ईंधन की कीमतों में बढ़ोतरी को लेकर ‘महंगाई मुक्त भारत अभियान’ शुरू की है।

जनता को सस्ते दर पर तेल उपलब्ध करा रही थी कांग्रेस सरकार : आमलगीर

कांग्रेस विधायक दल के नेता आलमगीर आलम ने बताया कि सात साल पहले 2014 में जब अंतरराष्ट्रीय क्रूड ऑयल की कीमत 140 प्रति डॉलर थी, उस वक्त यूपीए सरकार 70 रूपए से नीचे की कीमत पर देश की जनता को उपलब्ध करा रही थी। पूर्व केंद्रीय मंत्री सुबोधकांत सहाय ने कहा कि पेट्रोल और डीजल की कीमतों को केंद्र सरकार जीएसटी के अंतर्गत नहीं लाना चाहती, क्योंकि अगर जीएसटी के अंतर्गत आ जाएगा तो पेट्रोल और डीजल के पैसे से प्रधानमंत्री जो बिलासिता कर रहे हैं वो रुक जाएगा।

Show More

Related Articles