सही आंदोलनकारी छूटे नहीं, गलत जुटे नहीं : भुनेश्वर महतो

जयपाल सिंह मुंडा की 52वीं पुण्यतिथि पर झारखंड आंदोलन में शहीद हुए आश्रितों को किया गया सम्मानित

रांची : झारखंड आंदोलनकारी संघर्ष मोर्चा, पश्चिमी सिंहभूम के तत्वावधान में झारखंड आंदोलनकारी मिलन समारोह का आयोजन नवामुंडी के कुतिंका गांव में किया गया। समारोह में मरांग गोमके जयपाल सिंह मुंडा की 52वीं पुण्यतिथि मनाई गई तथा झारखंड के वीर महापुरुषों के चित्रों पर माल्यार्पण किया गया। साथ ही गोवा गोलीकांड व झारखंड आंदोलन में शहीद हुए आश्रितों को सम्मानित किया गया। इस मौके पर संघर्ष मोर्चा द्वारा मांग की गई कि सभी आंदोलनकारियों को सरकार जल्द से जल्द चिन्हित कर सीधी नौकरी देकर मान-सम्मान पहचान दे।
कार्यक्रम में मुख्य अतिथि झारखंड आंदोलनकारी चिन्हित ती करण आयोग के सदस्य भुनेश्वर महतो ने कहा कि झारखंड आंदोलनकारियों को चिन्हित करने का दायित्व सरकार ने मुझे दिया है यह मेरे लिए गौरव है। निश्चित ही अलग राज्य के झारखंड आंदोलनकारियों को मान-सम्मान पहचान मिलना चाहिए। राज्य सरकार ने अभी आंदोलनकारियों के लिए 5 प्रतिशत आरक्षण तथा पेंशन राशि में बढ़ोतरी कर उत्कृष्ट कार्य किया है। उन्होंने कहा कि सही आंदोलनकारी छूटे नहीं और गलत जुटे नहीं ये हमारी सरकार की प्राथमिकता है।

विशिष्ट अतिथि राजू महतो ने कहा कि झारखंड आंदोलनकारियों का चिन्हित करने का कार्य जल्द से जल्द किया जाए। आंदोलनकारियों से ही राज्य का गौरव है, लेकिन आज झारखंड आंदोलनकारी इस माय-माटी की सरकार में स्वयं को उपेक्षित महसूस कर रहे हैं। उन्होंने आंदोलनकारी कोरिडोर निर्माण की मांग की।

केंद्रीय प्रवक्ता पुष्कर महतो ने कहा कि शिबू सोरेन सहित सभी झारखंड आंदोलनकारियों को सरकार चिन्हित करें, सम्मान दे पहचान दे। झारखंड आंदोलनकारी एवं अमर पुरोधाओं को चिन्हित करने का दायित्व चुनौतीपूर्ण है उसे सरकार अवसर में बदलकर गौरवशाली इतिहास स्थापित करें। सम्मेलन की अध्यक्षता करते हुए झारखंड आंदोलनकारी संघर्ष मोर्चा पश्चिम सिंहभूम के अध्यक्ष आसमान सुंडी ने कहा कि सरकार झारखंड आंदोलनकारियों के सपनों को साकार करें। झारखंड आंदोलनकारी एवं पूर्व विधायक मंगल सिंह बोंगोंगा ने कहा कि हमारे झारखंड आंदोलनकारियों की संघर्ष और शहादत के बाद ही झारखंड राज्य का गठन हुआ है।  दुर्भाग्य है कि अभी अपनी पहचान के लिए मान-सम्मान के लिए एकबार और आंदोलन करना पड़ रहा है। कार्यक्रम का संचालन इजरार राही व जयंती कैरम, स्वागत भाषण अंबिका दास व धन्यवाद ज्ञापन गौतम मिंज ने की। मौके पर केंद्रीय सचिव सारोजनी कच्छप, विनीता खलखो, अशोक वर्मा, नवाज हुसैन, विश्वजीत प्रमाणिक ने भी विचार व्यक्त किए। इस मौके पर संघर्ष मोर्चा द्वारा सुरेश लागुरी, रेशमी तिरिया, नरपति लागुरी, सानू सवैया, अंबिका दास, नवाज़ हुसैन, सावित्री लागुरी, जस्मनी जेराई, राम सिरका, उपेन्द्र लागुरी, मोरन सिंह लागुरी, कृष्ण चन्द्र बोयपाई, मंगल केराई, चंद्रमोहन चंपिया, नरेंद्र चातोब्बा, शारदा तिरिया, शंकर तिरिया, भुनेश्वर गोप, सुरेश रकैत, पानी लागुरी, बामिया सुरेन, अजय शांडिल, बैथनाथ लागुरी, राइमुनी सिरका, बेन सिंह बोयपाई, सुंदरलाल चातो, लक्ष्मी नारायण पूर्ति, माहती मुंडा, पतार बोयपाई, रोया पूर्ति सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

Show More

Related Articles