उप्र: गोरखपुर में कारोबारी हत्या मामले में छ: पुलिसकर्मी निलंबित

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में कारोबारी की हत्या मामले में छ: पुलिसकर्मियों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर निलंबित कर दिया गया है.

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में कारोबारी की हत्या मामले में छ: पुलिसकर्मियों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर निलंबित कर दिया गया है. इस बीच, खबर यह है कि कारोबारी मनीष गुप्ता के शव की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आ गई है. इसमें सिर और चेहरे पर चोट के निशान पाए गए हैं. इसके साथ ही, शरीर के कई हिस्सों में गंभीर चोट के निशान पाए गए हैं.
कल देर रात उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मृतक कारोबारी की पत्नी से फोन पर बात की और दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई का
भरोसा दिया. इस दौरान उन्होंने पीड़ित परिवार को राज्य सरकार की ओर दस लाख रुपये मुआवजे का ऐलान किया.

मृतक कारोबारी की पत्नी मीनाक्षी गुप्ता ने मांग की है कि जिस होटल में उनके पति की हत्या हुई, उस होटल का लाइसेंस रद्द होना चाहिए और सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि होटल का मालिक फिर से कहीं होटल न बनाये.

गौरतलब है कि गोरखपुर में कथित तौर पर कानपुर के एक कारोबारी की पुलिस की पिटाई से मौत हो गई. कानपुर के रहने वाले 36 साल के रियल एस्टेट कारोबारी मनीष गुप्ता गोरखपुर गए हुए थे. वह दो दोस्तों के साथ एक होटल में थे. आरोप है कि होटल में रात में पुलिस गई और मनीष गुप्ता की बेवजह मारपीट की, जिससे उनकी मौत हो गई थी.

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कारोबारी की हत्या के बहाने भाजपा पर निशाना साधा है. ट्विटर के जरिये उन्होंंने उत्तर प्रदेश सरकार पर निशाना साधा है. उन्होंंने लिखा है कि खबरों के अनुसार गोरखपुर में एक कारोबारी को पुलिस ने इतना पीटा कि उनकी मृत्यु हो गई. इस घटना से पूरे प्रदेश के आमजनों में भय व्याप्त है. इस सरकार में जंगलराज का ये आलम है कि पुलिस अपराधियों पर नर्म रहती है और आमजनों से बर्बर व्यवहार करती है.

 

यह भी पढें- पंजाब कांग्रेस में मचे घमासान के बीच अमित शाह से मिले कैप्टन अमरिंदर, कयासों का बाजार गर्म

Show More

Related Articles