छपरा: चेक बाउंस के आरोप में एक्टर खेसारी लाल यादव के खिलाफ जारी हुआ गैरजमानती वारंट, जा सकते हैं जेल

खेसारी लाल यादव मुश्किल में फंस गए हैं. छपरा के कोर्ट में उनके खिलाफ गैरजमानती वारंट जारी हुआ है. खेसारी पर आरोप है कि जमीन खरीदने के बाद उन्होंने रूपये नहीं दिये हैं.

 

भोजपुरी एक्टर व सिंगर खेसारी लाल यादव मुश्किल में फंस गए हैं. छपरा के कोर्ट में उनके खिलाफ गैरजमानती वारंट जारी हुआ है. खेसारी पर आरोप है कि जमीन खरीदने के बाद उन्होंने रूपये नहीं दिये हैं.
खबरों के मुताबिक, खेसारी लाल यादव के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी हुआ है. छपरा के न्यायिक दंडाधिकारी प्रथम श्रेणी सह विशेष न्यायिक दंडाधिकारी संजय कुमार सरोज की अदालत ने यह वारंट जारी किया है.
बताया जाता है कि जमीन खरीदने के बाद खेसाली लाल ने जो चेक दिए थे वह बाउंस हो गया है. इसी को लेकर उनके खिलाफ केस दर्ज कराई गई थी. कोर्ट में पेशी के निर्देश के बावजूद खेसारी लाल कई तारीखों में पेशी पर नहीं आए, जिसके बाद उनके खिलाफ अब कोर्ट ने गैर जमानती वारंट जारी किया है.
गौरतलब है कि रसूलपुर थाना में असहनी गांव के रहने वाले मृत्युंजय नाथ पांडेय ने खेसारी के खिलाफ केस दर्ज कराया था. थाने में दर्ज प्राथमिकी में पीड़ित ने बताया था कि खेसारी लाल की पत्नी चंदा देवी से उसने अपनी जमीन 22 लाख 7 हजार रुपये में बेची थी. जमीन की रजिस्ट्री भी हो गयी थी.
पीड़ित मृत्युंजय पांडेय ने यह भी बताया कि जमीन के एवज में खेसारी लाल ने 18 लाख रुपये का चेक उसे दिया था. 18 लाख के चेक को उसने अपने अकाउंट में डिपोजिट किया था. 20 जून 2019 को डिपोजिट हुआ चेक 24 जून को उनके पास वापस आ गया. जिसके बाद उन्होंने उस चेक को फिर से बैंक में जमा कराया. 27 जून को डिपोजिट हुआ चेक 28 जून को बाउंस हो गया.
जिसके बाद 22 जनवरी 2021 को खेसारी लाल यादव के खिलाफ सम्मन जारी करने का आदेश दिया गया. 25 फरवरी 2021 को खेसारी लाल के खिलाफ जमानतीय वारंट जारी करने का आदेश दिया गया. इसके बावजूद खेसारी लाल यादव कोर्ट में उपस्थित नहीं हुए. जिसके बाद छपरा के न्यायिक दंडाधिकारी प्रथम श्रेणी संजय कुमार सरोज की अदालत ने खेसारी लाल के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया है.

Show More

Related Articles