आवासन और शहरी कार्य मंत्रालय, भारत सरकार के सचिव की अध्यक्षता में आयोजित हुआ ‘’लाभार्थियों से रूबरू’’ कार्यक्रम

मनोज जोशी की अध्यक्षता में राष्ट्रीय स्तर पर ‘’लाभार्थियों से रूबरू’’ कार्यक्रम का आयोजन वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से किया गया।

प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के अंतर्गत आजादी का अमृत महोत्सव के तहत आज दिनांक 17.02.2022 को आवासन और शहरी कार्य मंत्रालय, भारत सरकार के सचिव, श्री मनोज जोशी की अध्यक्षता में राष्ट्रीय स्तर पर ‘’लाभार्थियों से रूबरू’’ कार्यक्रम का आयोजन वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से किया गया। इस कार्यक्रम में झारखण्ड राज्य के 2 नगर निकायों के लाभार्थी 2 लाभार्थियों के साथ आवास निर्माण से संबंधित विभिन्न पहलुओं पर विस्तारपूर्वक चर्चा की गई।

कार्यक्रम के तहत सचिव महोदय ने झारखंड के रांची नगर निगम से चयनित मनीषा कच्छप एवं बुण्डू नगर पंचायत से चयनित मामोनी पाल से बातचीत की। कार्यक्रम के दौरान सचिव महोदय के साथ चयनित महिला लाभार्थियों ने प्रधानमंत्री आवास योजना-शहरी के सफल क्रियान्वयन व अनुभवों को साझा की। इस कार्यक्रम में विजया जाधव ,निदेशक, नगरीय प्रशासन निदेशालय, नगर विकास एवं आवास विभाग एवं संबन्धित नगर निकाय के पदाधिकारी गण सम्मिलित हुए।

निर्माण कार्य के प्रगति एवं जीविकोपार्जन संबंधी बिन्दुओं पर की गई चर्चा
कार्यक्रम में (MoHUA) के सचिव महोदय ने योजना के लाभार्थियों से उनसे नए मकान के निर्माण के प्रगति संबंधी विस्तारपूर्वक चर्चा कर पूरी जानकारी ली। साथ ही इस बारे में उनके समक्ष पेश आने वाली समस्याओं को भी गंभीरता से सुना तथा उनका समाधान निकालने संबंधी कुछ सुझाव भी दिए। इस दौरान ज्यादातर लाभार्थियों ने बताया कि उन्हें मकान निर्माण में जो भी समस्याएं पेश आई वह कोरोना से उत्पन्न हालात के मद्देनजर उनकी रोजी-रोटी प्रभावित होने के कारण ही उत्पन्न हुई हैं।

कार्यक्रम के दौरान वीडियो के माध्यम से आवास का लिया जायजा
रूबरू कार्यक्रम के दौरान सचिव महोदय ने चयनित महिला लाभार्थियों के नव-निर्मित आवास का वीडियो के माध्यम से पूर्ण जायजा लिया। इस दौरान उन्होंने लाभार्थियों से पानी, बिजली एवं आवास से जुड़ी जरुरी विषयों पर भी चर्चा की। इसके उपरांत आकर्षक व भव्य तथा सुंदर व स्वच्छ घर को देखकर उन्होंने काफी प्रसन्नता व्यक्त की। उन्होने इस संबंध में योजना के BLC घटक से निर्मित आवासों को देखकर पूर्व से चली आ रही अवधारणा को व्यक्त करते हुए कहा कि इस योजना से निर्मित घरें इतनी सुंदर व भव्य नहीं होती। लेकिन, झारखंड राज्य के लाभार्थियों ने उनकी पूर्व अवधारणा को तोड़ दिया । इसके लिए लाभुक एवं नगर निकाय के सभी पदाधिकारीगण बधाई के पात्र हैं। इस दौरान महिला लाभार्थियों के परिवारों से परिचय प्राप्त कर पेशा संबंधी बातों की भी जानकारी ली।

मिला पक्का मकान, बढ़ा मान-सम्मान
महिला लाभार्थियों ने अनुभवों को साझा करते हुए बताया कि आवास निर्माण से पूर्व कच्चा मकान में रहने के दौरान बच्चों को लालन-पालन करने में काफी दिक्कतें आ रही थी। जीवन अंधकारमय हो गया था। कच्चा मकान का दीवार गिरने की आशंका हमेशा बनी रहती। साथ ही सगे-संबंधियों व समाज में मान-सम्मान घट गया था। लेकिन, जैसे ही आवास बनकर तैयार हुआ अचानक से सामाजिक, आर्थिक व मानसिक रूप से सुदृढ़ता मिलने लगी। अचानक सब कुछ पाकर एक सपने जैसा लग रहा है। सगे-संबंधियों के साथ-साथ समाज में उनका मान-सम्मान में भी उत्तरोरत वृद्धि हुई है। अब जीवन खुशियों से भर गया है।
केन्द्रीय सचिव ने महिला लाभार्थियों को सरकार द्वारा संचालित अन्य योजनाओं से जुड़ने के लिए प्रेरित किया
इस दौरान सचिव महोदय ने आवास निर्माण संबंधी योजनाओं की कार्य प्रगति व लाभार्थियों के परिजनों से रूबरू होकर खुशी व्यक्त करते हुए कहा कि आप सभी लोगों को सरकार द्वारा संचालित अन्य योजनाओं से जोड़ा जाएगा। ताकि, आपलोग सामाजिक, आर्थिक व व्यक्तिगत रूप से सुदृढ़ एवं सम्पन्न बन सकें।
इसके साथ ही निर्माण कार्य में सहयोग के लिए मनीषा कच्छप एवं मामोनी पाल ने केंद्र सरकार, राज्य सरकार व नगर निकाय के सभी पदाधिकारियों के प्रति हृदय से आभार व्यक्त किया है।

Show More

Related Articles