सांसद चंद्रप्रकाश, बोकारो डीसी आमने-सामने, सांसद ने दिया विशेषाधिकार हनन का नोटिस

कार्यक्रम में सांसद को नहीं मिली सूचना 

बोकारो : गिरिडीह के सांसद चंद्रप्रकाश चौधरी और बोकारो डीसी कुलदीप चौधरी आमने-आमने हो गए हैं। दोनों चौधरी के बीच जंग की चर्चा सत्ता के गलियारों मों हो रही है। कुलदीप के खिलाफ चंद्रप्रकाश लोकसभा अध्यक्ष के पास पहुंच गए। बोकारो डीसी के खिलाफ विशेषाधिकार हनन का नोटिस दिया है। 20 फरवरी को नावाडीह प्रखंड के कार्यक्रम में सांसद चंद्रप्रकाश चौधरी को सूचना नहीं दिया जाने के मामले को गंभीरता से लेते हुए सांसद ने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला को पत्र देते हुए बोकारो के उपायुक्त कुलदीप चौधरी, कार्यपालक अभियंता श्रवण कुमार, प्रेम प्रकाश कुमार सांसद के विशेषाधिकार के हनन का मामला चलाने की अपील की है। सांसद ने लोकसभा अध्यक्ष को लिखे पत्र में कहा है कि 20 फरवरी को नावाडीह प्रखंड में पथ निर्माण विभाग, ग्रामीण कार्य विभाग की अलग-अलग योजनाओं का शिलान्यास स्थानीय विधायक के द्वारा किया गया इसकी सूचना उन्हें नहीं दी गई। यही नहीं, केंद्र प्रायोजित योजना के शिलान्यास कार्यक्रम में भी उन्हें बुलाया नहीं और ना ही इस कार्यक्रम की सूचना दी। यह मेरे विशेषाधिकार का हनन है और उनके सम्मान को ठेस पहुंचा है। इस मामले में सांसद चंद्रप्रकाश चौधरी का कहना है कि पत्र भेज चुका हूं। संसद सत्र के दौरान लोकसभा अध्यक्ष से इस मामले में व्यक्तिगत तौर पर मिलूंगा। लोकसभा एवं राज्यसभा के सदस्यों के संदर्भ में भारत सरकार के कार्मिक मंत्रालय ने कई बार सभी राज्यों के मुख्य सचिव को पत्र भेजते हुए उसकी कड़ाई से पालन करने का निर्देश भी दिया है, पर यह पहला मामला नहीं है अक्सर अधिकारी उन नेताओं को ज्यादा तरजीह देते हैं जिस पार्टी की राज्य में सरकार होती है।

Show More

Related Articles