पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी एवं रघुवर दास के नेतृत्व में भाजपा का एक प्रतिनिधिमंडल ने महामहिम राज्यपाल से की मुलाकात

भारतीय जनता पार्टी का एक प्रतिनिधिमंडल राजभवन पहुंचकर राज्यपाल से मुलाकात कर C.B.I जाँच कराने, दोषियों को दण्डित करने, परिवार को 10 लाख रुपये मुआवजा, सरकारी नौकरी एवं सुरक्षा मुहैया कराने का गुहार लगाया है।

सिमडेगा के कोलेबिरा थाना के बेसराजारा गाँव के दलित युवक संजू प्रधान को जिन्दा जलाकर मारने की घटना पर
भारतीय जनता पार्टी का एक प्रतिनिधिमंडल राजभवन पहुंचकर राज्यपाल से मुलाकात कर C.B.I जाँच कराने, दोषियों को दण्डित करने, परिवार को 10 लाख रुपये मुआवजा, सरकारी नौकरी एवं सुरक्षा मुहैया कराने का गुहार लगाया है। भाजपा ने कहा कि विगत 4 जनवरी 2022 को सिमडेगा जिला अन्तर्गत कोलेबिरा थाना के बेसराजारा गाँव में घटित एक हृदय विदारक घटना से हम सभी काफी दुःखी एवं विचलित हैं। आपको अवगत कराना चाहगे कि कोलेबिरा थाना के बेसराजारा गाँव के रहने वाले संजू प्रधान को आस-पास के रहनेवाले ग्रामीणों की उग्र भीड़ (जिसमें 500 से अधिक लोग थे) ने पीट-पीटकर अधमरा कर दिया एवं पास में ही जलावन के लिए रखी हुई लकड़ी में आग लगाकर उसे जिन्दा जला दिया। इस घटना के खबर की पूरे झारखण्ड में भर्तसना की गई एवं तत्संबंधित समाचार राज्य के सभी प्रमुख अखबारों में प्रकाशित भी हुआ है। सायद आप भी इस हृदयविदारक घटना से अवगत होंगे।

भारतीय जनता पार्टी ने इस शर्मनाक घटना के प्रति गंभीर चिंता व्यक्त की है। घटना की गंभीरता एवं पीड़ित परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त करने हेतु एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल ने घटना स्थल का दौरा किया, जिसमें विधायक दल के नेता सह पूर्व मुख्यमंत्री श्री बाबूलाल मरांडी, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सह पूर्व मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास, राष्ट्रीय मंत्री सह महापौर डॉ. आशा लकड़ा, अनुसूचित जनजाति मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष सह सांसद श्री समीर उरांव, प्रदेश उपाध्यक्ष श्रीमती गंगोत्री कुजूर सहित पार्टी के स्थानीय वरिष्ठ नेतागण शामिल थे।

भाजपा प्रतिनिधिमंडल एवं दोनों पूर्व मुख्यमंत्रियों के घटना स्थल पहुंचने पर मृतक संजू प्रधान के परिजनों उनकी पत्नी, मां एवं स्थानीय ग्रामीणों से मिलकर घटना के संबंध में जो जानकारी प्राप्त हुई वह इस प्रकार है :

दिनांक 28-12-2021 को कोलेबिरा के स्थानीय विधायक ने बंबलकेरा गांव में खूंटकटी स्थापना दिवस मनाने के नाम पर आयोजित सभा में लोगों को भड़काया था। जिसकी परिणति सुनियोजित साजिश के रूप में संजू प्रधान की हत्या के रूप में सामने आया।

बताया गया कि संजू प्रधान, के बेसराजारा स्थित घर के सामने हाट लगता है वहाँ गौ-माँस की खुलेआम बिक्री होती है जिसका विरोध ये किया करते थे इस वजह से दूसरे समुदाय के लोग इन पर काफी कुपित रहते थे एवं निशाने पर थे।

यह बताया गया कि 4 जनवरी, 2022 (मंगलवार) को वेठईटॉगर थाना अन्तर्गत बम्बलकेरा ग्राम में ग्राम प्रधान सुबन बुद्ध की अध्यक्षता में ग्राम सभा का आयोजन करने के बाद इनके नेतृत्व में 500 से अधिक लोगों की भीड़ दोपहर लगभग 1.30 बजे घर में पहुंचा और गौर करने वाली बात है कि ग्राम सभा के पश्चात भीड़ के साथ ठेठईटॉगर पुलिस दल भी •बेसराजरा में पहुंची थी। पुलिस के सामने में ग्राम प्रधान सुबन बुद्ध ने संजू प्रधान को हाथ पकड़कर घसीटते हुए भीड़ में ले गया और पत्थर / लाठी-डंडे से पीटकर अधमरा कर दिया. इतना ही नहीं पास में रखे जलावन की लकड़ी का चिता बनाकर जिन्दा आग में डालकर मार दिया। मृतक की पत्नी सपना देवी एवं माँ जब संजू की जान बचाने के लिए हाथ जोड़ने लगी तो इन्हें भी धकेलकर एवं मारपीट कर भगा दिया।

इनलोगों का कहना है कि घटनास्थल पर मौजूद ठेठईटॉगर थाना पुलिस के सामने लाख आरजू मिन्नतें एवं पैर पकड़ कर बचाने की गुहार लगाने के बावजूद पुलिस ने भीड़ पर कोई कार्रवाई नहीं की। यहाँ तक कि पुलिस मुकदर्शक बनकर घटना का Video बनाते रहा। पुलिस की मानवीय संवेदनशीलता एवं संवैधानिक कर्तव्यबोध भी नहीं दिखा। उसी दिन कोलेबिरा थाना के पुलिस पदाधिकारी ने बिना कुछ लिखे व बताए मृतक की पत्नी सपना देवी से तीन सादा कागज पर हस्ताक्षर करा लिए। चूँकि इस समय मस्तक की पत्नी की मानसिक हालात सामान्य नहीं थी इस वजह से इन्होंने पुलिस के दबाव में हस्ताक्षर भी कर दिया।

पीडित परिवार का कहना है कि यह घटना सुनियोजित थी और इसमें कई प्रमुख लोगों की संलिप्तता भी है।

रिपोर्ट- अमर कुमार मिश्रा, रांची

Show More

Related Articles