राँची: मदरसा शिक्षक संघ का शिष्टमंडल मुख्यमंत्री और शिक्षा सचिव से मिला

ऑल झारखण्ड मदरसा टीचर्स एसोसिएशन का एक शिष्टमंडल ने दुमका में मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन और गोड्डा में शिक्षा सचिव से मुलाकात कर मदरसा और संस्कृत शिक्षकों और कर्मचारियों के विभिन्न समस्याओं से अवगत कराते हुए ज्ञापन सौंपा।

 

 

ऑल झारखण्ड मदरसा टीचर्स एसोसिएशन का एक शिष्टमंडल ने दुमका में मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन और गोड्डा में शिक्षा सचिव से मुलाकात कर मदरसा और संस्कृत शिक्षकों और कर्मचारियों के विभिन्न समस्याओं से अवगत कराते हुए ज्ञापन सौंपा। समिति के महासचिव हामिद ग़ाज़ी ने बताया कि राज्य के 186 गैर सरकारी सहायता प्राप्त मदरसों में से 114 मदरसों के शिक्षकों के वेतनमान 22 माह से लंबित हैं जिस कारण शिक्षकों को काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। मदरसा से सम्बंधित संचिकाओं को विभाग ने ठंडे बस्ते में डाल दिया है। पेंशन की आस में बैठे सेवानिवृत्त शिक्षकों का सब्र का बांध भी टुटता जा रहा है। अगर जल्द ही सरकार कोई सकारात्मक पहल नहीं करती है तो शिक्षक सड़कों पर उतर कर आंदोलन के लिए बाध्य हो जाएंगे। ज्ञापन के माध्यम से लंबित वेतन शीघ्र जारी करने सहित पेंशन, सातवां वेतनमान, मदरसा बोर्ड का गठन, अलीम व फ़ाज़िल की परीक्षा विश्विद्यालय स्तर पर आयोजित कराने , विभागीय संकल्प 1377 में संशोधन करने व अन्य माँगें की गई । जिस पर मुख्यमंत्री ने शिष्टमंडल को आश्वस्त कराया कि मदरसों और संस्कृत शिक्षकों की सभी समस्याओं को दूर किया जाएगा। वहीं गोड्डा में शिष्टमंडल की माँग पर त्वरित कार्यवाई करते हुए शिक्षा सचिव ने जिला के शिक्षा पदाधिकारी को अविलंब मदरसों की जाँच प्रतिवेदन विभाग को भेजने का आदेश दिया साथ ही लंबित वेतनमान शीघ्र जारी करने की बात कही।
शिष्टमंडल में मुस्लिम हुसैन, मौलाना हदीस, मौलाना ज़फर, मास्टर सज्जाद, मो अयूब, फजलुर्रहमान व अन्य शामिल थे।

रिपोर्ट- अमर कुमार मिश्रा, रांची

Show More

Related Articles