मुजफ्फरपुर के निजी अस्पताल की घटना, मोतियाबिंद के ऑपरेशन के बाद 26 लोगों की आंखों की रोशनी गई

बिहार के मुजफ्फरपुर से एक बड़ी खबर सामने आ रही है जहां एक निजी क्लीनिक की लापरवाही ने 26 लोगों की आंखों की रोशनी छीन ली.

बिहार के मुजफ्फरपुर से एक बड़ी खबर सामने आ रही है जहां एक निजी क्लीनिक की लापरवाही ने 26 लोगों की आंखों की रोशनी छीन ली.
बताया जाता है कि एक ट्रस्ट की तरफ से मुजफ्फरपुर आई हॉस्पिटल में 22 नवंबर को मोतियाबिंद का ऑपरेशन कैंप लगाया गया था. इस दौरान कई लोगों के आंख की सर्जरी की गई. लेकिन अगले दिन जब पट्टी खोली गई तो इनमे से कुछ लोगों को कुछ भी दिखाई नहीं दे रहा था. मामला सोमवार को मुजफ्फरपुर सिविल सर्जन तक जा पहुंचा और तब इस बात का खुलासा हुआ कि सर्जरी के बाद 26 लोगों की आंख की रोशनी जा चुकी है.
इतनी बड़ी संख्या में लोगों की आंख की रोशनी चले जाने की जानकारी मिलने के बाद मुजफ्फरपुर के डीएम प्रणव कुमार भी एक्शन में आए हैं. उन्होंने पूरे मामले पर सिविल सर्जन से रिपोर्ट मांगी है.
मरीजों के परिजन ने बताया कि 22 नवंबर को आइ हॉस्पिटल में मोतियाबिंद ऑपरेशन का कैंप लगा था, जिसमें 65 लोगों का ऑपरेशन किया गया. दो दिन बाद अस्पताल से मरीजों को डिस्चार्ज कर दिया गया. जब वे लोग घर पहुंचे, तो आंखों में दर्द शुरू हो गया. अस्पताल में आकर जांच करायी गयी, तो डॉक्टर ने कहा कि इन्फेक्शन हो गया है.

Show More

Related Articles