अपडेट : बजट सत्र : वित्त मंत्री पेश किया एक लाख एक हज़ार 101 करोड़ का बजट, इस वित्तीय वर्ष का बजट 9824 करोड़ रुपए अधिक

किसान, युवा, रोजगार को समर्पित बजट : रामेश्वर

अपडेट : बजट सत्र : वित्त मंत्री पेश किया एक लाख एक हज़ार 101 करोड़ का बजट, इस वित्तीय वर्ष का बजट 9824 करोड़ रुपए अधिक

बजट में आमलोगों खासकर युवाओं के सुझावों को प्राथमिकता दी गई है

बजट में आधारभूत संरचनाओं और कल्याणकारी योजनाओं में सामंजस्य

बिजली, सड़क, स्वास्थ्य, शिक्षा में आधारभूत संरचनाओं के विकास पर जोर

बायो गैस बनाने के लिए गोबर की खरीदारी की जाएगी

रांची : विधानसभा नें चल रहे बजट सत्र के चौथे दिन झारखंड के वित्त मंत्रि डॉ रामेश्वर उरांव ने वित्तीय वर्ष 2022-23 का बजट पेश किया। वित्तीय वर्ष 2022-23 के लिए एक लाख एक हज़ार 101 करोड़ का बजट पेश किया गया है। वहीं पिछले वित्तीय वर्ष में 91,277 करोड़ का बजट पेश हुआ था, यानी पूर्व वित्तीय वर्ष की तुलना में इस वर्ष का बजट 9824 करोड़ रुपए अधिक का  बजट है। बजट में स्वास्थ्य, शिक्षा और कृषि पर जोर दिया गया है। सरकार ने बजट से पूर्व हमर अपन बजट कार्यक्रम के माध्यम से बजट के मद्देनजर लोगों से सुझाव मांगे थे। बजट में आमलोगों के सुझाव का पूरा ध्यान रखा गया है। बजट पेश करने के लिए विधानसभा जाने से पहले वित्त मंत्री डॉ रामेश्वर उरांव झारखंड के राज्यपाल रमेश बैस से मिले। राजभवन से निकलने के दौरान वित्त मंत्री ने कहा कि बजट में जन आकांक्षाओं को पूरा करने का प्रयास किया गया है। इसके बाद उन्होंने मुख्यमंत्री को बजट की प्रति सौंपी।

किस क्षेत्र में कितनी वृद्धि

बजट में स्वास्थ्य में 50 फीसदी, पेयजल में 20 फीसदी, खाद्य वितरण में 21 फीसदी की बढ़ोतरी की गई है। कृषि ऋण माफी योजना में 2 लाख 11 हजार 530 किसानों के खाते में पैसे ट्रांसफर किया गया है।

किसान, युवा, रोजगार को समर्पित बजट : रामेश्वर  

वित्त मंत्री रामेश्वर उरांव ने बजटीय भाषण के दौरान दावा किया है कि बजट में किसान, महिला, युवा व रोजगार पर विशेष ध्यान दिया गया है। युवा की सोच प्रगतिशील है। लोगों से मिले सुझाव को बजट में जोड़ा गया है। आम जनता से मिलकर समाधान निकालने का प्रयास सरकार कर रही है।

राज्य में शुरू होगी गोधन विकास योजना

राज्य में गोधन विकास योजना शुरू की जाएगी। इसके तहत सरकार गोबर की खरीदारी कर बायोगैस को बढ़ावा देगी। इससे 40 हजार किसानों को स्वरोजगार से जोड़ा जाएगा।

बजट के प्रमुख बिंदु

2022-23 में जल संसाधन विकास पर 1894.48 करोड़ रुपए खर्च करेगी।

मनरेगा में 2022-23 में 12 करोड़ 50 लाख मानव दिवस सृजन का लक्ष्य रखा गया है।

किसानों के लिए 25 करोड़ का कॉरपस फंड।

पारा शिक्षकों के मानदेय में 40-50 फीसदी तक की वृद्धि।

कोरोना काल में बाधित विकास कार्य को बढ़ावा देने का लक्ष्य।

छात्रों के लिए विशेष योजना पर बल।

वृद्धों की विशेष सहायता पर जोर।

हर घऱ पानी, बिजली मुहैया कराने पर बल।

पुनासी जल योजना को 2022 तक पूरा करने का प्रावधान।

बजट में सामान्य प्रक्षेत्र से 31 हजार 896 करोड़।

सामाजिक प्रक्षेत्र से 37 हजार 313 करोड़।

आर्थिक प्रक्षेत्र से 31 हजार 891 करोड़ रुपए

निधि की व्यवस्था : अपने कर से 24850 करोड़, गैर कर राजस्व 13 हजार762 करोड़, केंद्रीय सहायता 17 हजार 405 करोड़, केंद्रीय करों में हिस्सेदारी 27 हजार 625 करोड़, लोकउपक्रम से 18 हजार करोड़, उधार से 75 करोड़ 84 लाख।

स्वास्थ्य के क्षेत्र में 27 प्रतिशत की वृद्धि।

शिक्षा के क्षेत्र में 22 प्रतिशत की वृद्धि ।

मनरेगा में 2022-23 में 12 करोड़, पचास लाख मानव दिवस सृजन का लक्ष्य।

Show More

Related Articles