हेमंत सरकार स्थानीयता और नियोजन नीति तय कर झारखण्ड के युवाओं को रोजगार दिया जाना सुनिश्चित करे: वामदल

सीपीएम राज्य कार्यालय मे आज वामदलों की बैठक भुवनेश्वर प्रसाद मेहता की अध्यक्षता मे संपन्न हुयी.

सीपीएम राज्य कार्यालय मे आज वामदलों की बैठक भुवनेश्वर प्रसाद मेहता की अध्यक्षता मे संपन्न हुयी.
बैठक मे हेमंत सरकार से मांग की गयी कि वह बिना देर किए झारखंड की स्थानीयता नीति और नियोजन नीति तय किए जाने के लिए सर्वदलीय बैठक बुलाकर इस मुद्दे पर एक राय बनाए जाने की दिशा मे ठोस कदम उठाए. क्योंकि राज्य के बेरोजगार युवाओं का भविष्य अधर मे लटका हुआ है और उनका आक्रोश बढ़ता जा रहा है. इस आक्रोश का फायदा लेने के लिए विभाजनकारी ताकतें सक्रिय हो गयी हैं.जिसके चलते राज्य मे भ्रम की स्थिति पैदा हो रही है. वामदलों की स्पष्ट समझ है कि नियोजन मे स्थानीय युवाओं को प्राथमिकता मिले जैसा कि मुख्यमंत्री ने पिछले विधानसभा सत्र के दौरान घोषणा भी की थी लेकिन बिना स्थानीयता नीति तय किए यहां की नौकरियों मे स्थानीय बेरोजगारों को प्राथमिकता दिया जाना संभव नहीं है.
वामदलों ने राज्य सरकार से कार्मिक एवं प्रशासनिक सुधार तथा राजभाषा विभाग द्वारा पिछले 27 दिसंबर को जारी गजट को भी तत्काल स्थगित रखे जाने और सर्वदलीय बैठक मे इस गजट की विसंगतियों पर उठाए जा रहे सवालो पर भी चर्चा कर एक तर्क पूर्ण सर्वमान्य हल निकाले जाने की भी मांग की है ताकि झारखंड की जनता को भाषा के मुद्दे पर विभाजित किए जाने की साजिश को पराजित किया जा सके.
बैठक मे भाकपा के राज्य सचिव भुवनेश्वर प्रसाद मेहता, भाकपा (माले) के राज्य सचिव मनोज भक्त, सीपीएम के राज्य सचिव प्रकाश विप्लव के अलावा भाकपा के महेंद्र पाठक, अजय सिंह, भाकपा माले के भुवनेश्वर बेदिया, पुरन महतो, सीपीएम के सुरजीत सिन्हा, समीर दास और प्रफुल्ल लिंडा उपस्थित थे.

Show More

Related Articles