झारखंड : हजारीबाग के इचाक में दो समुदाय के बीच में झड़प

पुलिसकर्मी सहित आधा दर्जन लोग घायल

धारा 144 लागू

हजारीबाग : इचाक थाना क्षेत्र के इचाक बाजार दर्जी मोहल्ला मैं हुई एक झड़प ने हिंसक रूप ले लिया है। दो पक्षों के बीच मारपीट की घटना के बाद उपद्रवियों ने तीन दुकानों को फूंक दिया है। घटनास्थल जिला मुख्यालय से 14 किमी की दूरी पर है और इचाक प्रखंड मुख्यालय का मुख्य बाजार है। घटना में कम से कम एक दर्जन लोग घायल हुए हैं। एक पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं। घटना के बाद क्षेत्र में डीएसपी रैंक के तीन अफसरों के साथ बड़े पैमाने पर पुलिस बल की तैनाती कर दी गई है। हजारीबाग के सदर के एसडीओ विद्याभूषण भी घटनास्थल पर कैंप रहे हैं। हजारीबाग के एसपी मनोज रतन चोथे ने बताया कि दो पक्षों के बीच मारपीट हुई। जिसके बाद घटना में बड़ा रूप ले लिया और दो पक्षों के लोग एक-दूसरे पर पथराव करने लगे। घटना के बाद पुलिस बल को घटनास्थल पर भेजा गया है। पुलिस ने स्थिति को नियंत्रण में ले लिया है और सभी चौक-चौराहों और कुछ संवेदनशील गांवों में पुलिस की तैनाती कर दी गई है। उपद्रवियों की धड़-पकड़ की कोशिशें की जा रही है। एसपी ने लोगों से अपील की है कि वह किसी भी तरह के अफवाह पर ध्यान ना दें। जानकारी के मुताबिक शनिवार की रात करीब 9 बजे एक बाइक पर सवार तीन युवक कुरहा गांव से गुजर रहे थे। उसी दौरान गांव के कुछ युवकों से उनकी बहस हो गई। जिसके बाद दोनों पक्ष के लोग जुट गए और एक-दूसरे पर पत्थरबाजी करने लगे। कुछ देर बाद उपद्रवियों ने एक फल दुकान, एक कपड़ा का दुकान और एक सब्जी दुकान को फूंक दिया। आग बुझाने के दौरान एक पुलिसकर्मी का हाथ झुलस गया है। तोपचांची की घटना में पथराव में बाघमारा के एसडीपीओ निशा मुर्मू घायल हो गई हैं। वहीं हजारीबाग के इचाक में एक पुलिसकर्मी के घायल होने की खबर है। इससे पहले शुक्रवार 18 मार्च की रात तोपचांची प्रखंड के श्रीरामपुर गांव से होली की टोली निकलने पर एक पक्ष मना कर दिया, जिसे लेकर दोनो पक्ष भिड़ गए और जमकर हंगामा हुआ। सुचना मिलते ही मौके पर पुलिस प्रशासन पहुंच मामला को शांत करवाने में जुटे रहे। मामला गंभीर होते देख मौके पर बाघमारा एसडीपीओ निशा मुर्मू भी पहुंचे और मामला शांत करवाने में जुट गए। स्थिति तनावपूर्ण होते देख गांव को पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया गया। देर रात गांव में बाघमारा एसडीपीओ निशा मुर्मू के वाहन पर भीड़ ने पथराव कर दिया। जिस क्रम में निशा मुर्मू तथा उनके अंगरक्षक घायल हो गएष वाहन भी पुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गई। होली की टोली गुजरने के दौरान एक पक्ष के रोक जाने के बाद अचानक मामला उग्र हो गया और भीड़ ने पथराव शुरू कर दिया, जिसमें जान बचाने को लेकर लोग इधर-उधर भागने लगे, जिसमें कुछ ग्रामीणों को भी चोट आई है। इसी बीच भीड़ ने एसडीपीओ निशा मुर्मू के वाहन को भी निशाना बना कर हमला करने लगे। जिसमें उन्हें चोट आई। मामला उग्र होता देख पुलिस ने लाठीचार्ज करके मामला को शांत करवाने की प्रयास किया। बीते रात से ही पुलिस कैंप लगाकर स्थिति सामान्य करने में लगी है। पुरे गांव को पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया गया है। फिलहाल स्थिति नियंत्रण में बताया जा रहा है, लेकिन माहौल तनावपूर्ण बना हुआ हैं।

Show More

Related Articles