ढाई साल बाद कल पटना आ रहे लालू यादव, इन दो चुनौतियों से होंगे रूबरू

पिछले करीब छ: महीनों से बड़ी बेटी मीसा भारती के दिल्ली आवास पर स्वास्थ्य लाभ ले रहे लालू यादव को डॉक्टरों ने बिहार जाने की इजाजत दे दी है.

 

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव करीब ढाई साल बाद पटना आ रहे हैं. पिछले करीब छ: महीनों से बड़ी बेटी मीसा भारती के दिल्ली आवास पर स्वास्थ्य लाभ ले रहे लालू यादव को डॉक्टरों ने बिहार जाने की इजाजत दे दी है.

लालू यादव जब दिल्ली से पटना पहुंचेंगे तो उनके सामने दो चुनौतियां होंगी. पहली तो 30 अक्टूबर को कुशेश्वरस्थान व तारापुर में होने वाला विधानसभा उपचुनाव, जो सभी पार्टियों के लिए नाक की लड़ाई हो गई है. इस चुनाव के लिए लालू यादव राष्ट्रीय जनता दल के स्टार प्रचारकों की लिस्ट में पहले नंबर पर हैं.
इसके अलावे लालू यादव के सामने एक दूसरी चुनौती है, उनके दोनों बेटों तेजस्वी यादव व तेजप्रताप यादव के बीच का सियासी मनमुटाव, जो राबड़ी देवी भी खत्म नहीं कर पाई हैं. माना जा रहा है कि लालू यादव के आने स्थितियां बदलेंगी.

आपको बता दें कि राजद प्रमुख आखिरी बार अपने बड़े बेटे तेजप्रताप यादव की शादी में 12 मई 2018 को रांची जेल से पेरोल पर पटना आए थे. उसके बाद से उनके पटना पहुंचने का इंतजार बढ़ता रहा. इसी वर्ष 17 अप्रैल को जमानत मिलने के बाद उम्मीद थी कि वे पटना आ सकते हैं, परंतु एम्स से निकलने के बाद वे सीधे अपनी बेटी के आवास पर चले गए थे.

यह भी पढ़ें- उपचुनाव के बहाने महागठबंधन में बनी गांठ, कांग्रेस ने बिहार में लोकसभा चुनाव अकेले लड़ने का किया ऐलान

Show More

Related Articles