झामुमो और कांग्रेस में तुष्टिकरण की राजनीति की मची है होड़ : दीपक प्रकाश

बेहतर होता दोनों दलों में झारखंड के विकास को लेकर छिड़ी होती प्रतिस्पर्धा

रांची : झारखंड भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सह राज्यसभा सांसद दीपक प्रकाश ने झारखंड सरकार में शामिल दोनों प्रमुख दल झामुमो और कांग्रेस के बीच मुस्लिम तुष्टिकरण को लेकर आपस में ही होड़ मचे होने की बात कहते हुए जोरदार हमला बोला है। प्रकाश ने कहा है कि राज्य की सत्ता में शामिल झामुमो और कांग्रेस का जो राजनीतिक अंदाज है, वह यह साबित करता है कि दोनों दलों का राज्य के विकास की बजाए एक खास वर्ग की तुष्टिकरण पर कहीं अधिक जोर है। दोनों दल अपने आप को उस खास वर्ग के लिए अधिक शुभचिंतक साबित करने में जुटे हैं। प्रकाश ने कहा कि राज्य सरकार कुछ खास वर्ग के अपराधियों को संरक्षण देने में जुटी है। रूपेश पांडेय हत्याकांड में शामिल अपराधी हों या पेटरवार में दलित नाबालिग के साथ दुष्कर्म की घटना, अपराधियों को सरकार और पुलिस संरक्षण देने में जुटी है। अगर ऐसा नहीं है तो अबतक सभी आरोपी सलाखों के पीछे होते। वहीं संजू प्रधान मामले में भी आरोपी पुलिस गिरफ्त से दूर हैं। जब सरकार एक खास वर्ग के अपराधियों को संरक्षण देने में जुटी हो तो तुष्टिकरण की पर्याय बन चुकी सहयोगी पार्टी कांग्रेस भला क्यों पीछे रहती। कांग्रेस के बरही विधायक एक तरफ सरकार के प्रतिनिधिमंडल के साथ रुपेश पांडेय के पीड़ित परिजनों से मिलकर सांत्वना का दिखावा करते हैं, वहीं दूसरी तरफ पारसनाथ में आयोजित कांग्रेस पार्टी के चिंतन शिविर में रूपेश पांडेय मामले में हरहाल में अल्पसंख्यकों के साथ खड़े रहने की चिंता में दुबले होते हुए देखे जाते हैं। कांग्रेस विधायक उमाशंकर अकेला की इसी दोहरी भूमिका से नाराज होकर मॉब लिंचिग के शिकार हुए रूपेश पांडेय के पीड़ित परिवार ने उनके द्वारा दी गई 50 हजार की सहयोग राशि को वापस लौटाकर तुष्टिकरण की इस राजनीति पर जोरदार तमाचा जड़ा है। मॉब लिंचिग को लेकर ऐसा राजनीतिक दृष्टिकोण और एक खास वर्ग के लिए यह अटूट प्रेम देश के किसी अन्य राज्य में देखने को नहीं मिलेगा। विधानसभा परिसर में नमाज कक्ष के आवंटन पर दोनों पार्टियों का रुख राज्य की जनता ने पूर्व में देख ही लिया है।

सांसद प्रकाश ने कहा कि तुष्टीकरण की नीति एक स्वस्थ लोकतंत्र के लिए बेहद खतरनाक है। दोनों ही पार्टियां मुस्लिम तुष्टिकरण की सारी हदें पार कर चुकी हैं। जनता बुनियादी सुविधाओं को लेकर त्राहिमाम कर रही है, प्रदेश जंगलराज में तब्दील हो चुका है और ऐसे में सरकार का झुकाव केवल एक खास वर्ग तक ही केंद्रित हो तो झारखंड की राजनीति के लिए इससे बड़ा दुर्भाग्य और क्या हो सकता है। बेहतर होता दोनों दलों में यह प्रतिस्पर्धा झारखंड के विकास को लेकर छिड़ी होती।

जैनामोड़ से गोला तक फोरलेन के लिए केंद्र सरकार का जताया आभार

प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश ने जैनामोड़ से गोला तक फोरलेन सड़क निर्माण के लिए 1007.97 करोड़ रुपए बजट की स्वीकृति देने के लिए राज्य की सवा तीन करोड़ जनता की ओर से इस बड़ी सौगात के लिए केंद्र सरकार का आभार एवं धन्यवाद प्रकट किया है। कहा कि इससे आवागमन में काफी सहूलियत होगी। झारखंड में राजमार्गों की स्थिति सुदृढ़ करने, सड़कों के चौड़ीकरण और नयी सड़कों पर केंद्र सरकार प्रारंभ से ही संजीदा रही है। प्रकाश ने कहा कि केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का झारखंड के प्रति लगाव और जुड़ाव छिपा नहीं है। हमेशा केंद्र ने झारखंड पर दिल खोलकर प्यार लुटाया है। वहीं उन्होंने झारखंड सरकार को अपनी भूमिका ईमानदारी से निभाने की बात कही।

Show More

Related Articles