भाषाई अस्मिता और 1932 खतियान के खिलाफ 27 फरवरी को होगा प्रतिकार सभा : मंच

भोजपुरी-मगही को क्षेत्रीय भाषा से हटाने के खिलाफ आक्रोश व्यक्त किया

रांची : हटिया बॉस्को नगर में जनजागरण अभियान के तहत अखिल भारतीय भोजपुरी मगही मैथिली अंगिका मंच की बैठक हुई। बैठक की अध्यक्षता डा. आरपी सिंह ने किया। चर्चा के दौरान उपस्थित लोगों ने बोकारो, धनबाद से भोजपुरी-मगही को क्षेत्रीय भाषा से हटाने के खिलाफ आक्रोश व्यक्त किया। सभी लोगों ने संकल्प लिया कि भोजपुरी, मगही, मैथिली, अंगिका एवं हिंदी भाषा की अस्मिता बचाने के लिए हमलोग एकजुट होकर सरकार के निर्णय का प्रतिकार करेंगे। बैठक में विशेष रूप से शामिल मंच के अध्यक्ष कैलाश यादव ने सभी लोगों को आह्वान किया की राज्यहित में बहुसंख्य भाषियों को हरमू विद्यानगर में पहुंचकर आयोजित 27 फरवरी रविवार समय 11 बजे से प्रतिकार सभा में शामिल करें और लोगों को जागरूक करने का माहौल बनाए, ताकि प्रतिकार सभा के माध्यम से पुनः उक्त सभी भाषाओं को राजभाषा में शामिल करने को लेकर हेमंत सरकार पर दबाव बनाने में कामयाब हो। अगर सभी लोग एकजुटता के साथ विरोध करने का संकल्प लेंगे तो प्रतिकार सभा में एक बड़े निर्णय का ऐलान किया जाएगा। बैठक में राजकिशोर सिंह, सरजू प्रसाद, सुरेश सिंह, राजीव रंजन, चंद्रिका प्रसाद, प्रेमशंकर सिंह, कमल ओझा, बैजनाथ यादव, अरुण यादव, लालदेव तिवारी, पंकज वर्मा, महेश तिवारी, कमलेश शर्मा सहित अन्य लोग मौजूद थे।

Show More

Related Articles