सऊदी अरब में एक दिन में दी गई 81 लोगों को फाॅंसी, मानवाधिकार आयोग ने की निंदा

सऊदी अरब में एक दिन में 81 लोगों को फाॅंसी दे दी गई. संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार प्रमुख मिशेल बाशेलेट ने इसकी निंदा की है.

सऊदी अरब में एक दिन में 81 लोगों को फाॅंसी दे दी गई. संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार प्रमुख मिशेल बाशेलेट ने इसकी निंदा की है.
मिशेल बाशेलेट ने कहा कि 12 मार्च को दिये गए सामूहिक मृत्यु दण्ड में, 41 शिया अल्पसंख्यक समुदाय के मुसलमान थे, जिन्होंने 2011-12 में अधिक राजनैतिक भागेदारी की मांग करते हुए, सरकार विरोधी प्रदर्शनों में हिस्सा लिया था. अन्य सात लोग यमन के थे, और एक व्यक्ति सीरियाई नागरिक था.

संयुक्त राष्ट्र की मानवाधिकार प्रमुख ने याद दिलाया कि अन्तरराष्ट्रीय मानवाधिकार और मानवीय क़ानून के तहत आवश्यक “निष्पक्ष परीक्षण गारंटी” प्रदान नहीं करने वाले मुक़दमों के बाद, मौत की सज़ा दिया जाना प्रतिबन्धित है और इन्हें “युद्धापराध की श्रेणी में रखा जा सकता है”. इसके अलावा मृत्यु दण्ड, मानव अधिकारों और गरिमा के मौलिक सिद्धान्तों, जीवन के अधिकार और यातना की निषिद्धता के अधिकारों से मेल नहीं खाता है. उन्होंने कहा कि मृत्यु दण्ड के पीड़ितों के सम्बन्धियों को उनके प्रियजनों को फाँसी दिये जाने की परिस्थितियों के बारे में जानकारी देने में विफलता “यातना और दुर्व्यवहार” की परिभाषा के दायरे में गिनी जा सकती है.
संयुक्त राष्ट्र की शीर्ष मानवाधिकार अधिकारी ने ज़ोर देकर कहा, “अधिकारियों को मारे गए लोगों के शव, उनके परिवारों को लौटाने चाहिये”.

Show More

Related Articles