सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश का बयान, अदालतों में खाली पदों को भरने और बुनियादी ढांचे में सुधार करने का कर रहे हैं प्रयास

सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश एनवी रमन्ना ने कहा है कि वो अदालतों में खाली पदों को भरने और बुनियादी ढांचे में सुधार करने का प्रयास कर रहे हैं.

सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश एनवी रमन्ना ने कहा है कि वो अदालतों में खाली पदों को भरने और बुनियादी ढांचे में सुधार करने का प्रयास कर रहे हैं. जस्टिस रमन्ना ने तेलंगाना स्टेट ज्युडिशियल कॉन्फ्रेंस 2022 में संबोधन के दौरान अदालतों में पेंडिंग मामलों और न्यायपालिका पर बढ़ते बोझ को लेकर भी चिंता जाहिर की है.
साथ ही, चीफ जस्टिस ने कहा कि ‘न्याय तक पहुंच बनाना तभी संभव है जब हम पर्याप्त संख्या में अदालतें और बुनियादी ढांचा मुहैया कराए जाएं.’ जस्टिस एनवी रमन्ना ने कहा कि वो सुप्रीम कोर्ट, हाई कोर्ट और यहां तक कि जिला अदालतों में भी कोई खाली पद नहीं देखना चाहते हैं.

जस्टिस रमन्ना ने आगे कहा कि अदालतों में लंबित मामले भी एक बड़ी समस्या है और देश के विभिन्न हिस्सों में न्यायिक बुनियादी ढांचा अपर्याप्त पाया गया है. उन्होंने न्यायिक अधिकारियों से वादियों के लिए अनुकूल माहौल बनाने और विवाद के मानवीय पहलुओं को हमेशा याद रखने का अनुरोध भी किया. मुख्य न्यायाधीश ने कहा, ‘कानून समानता से दूर नहीं हो सकता है. जब भी आपके पास अपने विवेक को लागू करने की गुंजाइश हो, तो न्यायपालिका के मानवीय चेहरे को पेश करना जरूरी है.’

Show More

Related Articles